सपना है...
सपना है...
मत बात करो पीछे हटने की आगे बड़ते जाना है, सपना है राम राज का सपने को साकार बनाना है
बहुत गा चुके पेड़ो के पीछे, विजय गान को गाना है
नहीं चाहता बनना तारा आसमान का बन कर दीपक इस धरती पर अंधकार से लड़ना है
उम्मीद नहीं के फूल मेलेगे, कठिन रहा हो अंगारों पर चल न है
वक्त मेले तब मेलने आना पर मिलने आना, मिल जाऊ हमसे से ये मेरा सपना है
सपना है…

https://cubsindia.com/wp-content/uploads/2010/12/dream.pnghttps://cubsindia.com/wp-content/uploads/2010/12/dream.pngstorytellerPoemsdream,सपनामत बात करो पीछे हटने की आगे बड़ते जाना है, सपना है राम राज का सपने को साकार बनाना है बहुत गा चुके पेड़ो के पीछे, विजय गान को गाना है नहीं चाहता बनना तारा आसमान का बन कर दीपक इस धरती पर अंधकार से लड़ना है उम्मीद नहीं के फूल मेलेगे,...Stories, Tales, Fables & Floklore